चीन ने बनाई 600 किमी प्रतिघंटे की रफ्तार से ट्रैक पर ‘उड़ने’ वाली ट्रेन!

0
88

चीन ने मंगलवार को 600 किमी प्रति घंटे की शीर्ष गति में सक्षम मैग्लेव ट्रेन से पर्दा उठाया। राज्य की मीडिया ने इसके बारे में जानकारी दी। इस ट्रेन की अधिकतम गति ट्रेन को चीन द्वारा स्व-विकसित और तटीय शहर क़िंगदाओ में निर्मित, विश्व स्तर पर मौजूद सबसे तेज़ जमीनी वाहन बना देगी। विद्युत-चुंबकीय बल (इलेक्ट्रोमेग्नेटिक फोर्स) का उपयोग करते हुए मैग्लेव ट्रेन इसकी बॉडी और रेल के बीच बिना किसी संपर्क के ट्रैक के ऊपर जैसे उड़ते हुए चलती है।

चीन लगभग दो दशकों से बहुत सीमित पैमाने पर टेक्नोलॉजी का उपयोग कर रहा है। शंघाई में एक छोटी मैग्लेव लाइन है जो इसके एक हवाई अड्डे से शहर तक चलती है।  चूंकि चीन में अभी तक कोई अंतर-शहर या अंतर-प्रांत मैग्लेव लाइनें नहीं हैं जो उच्च गति का अच्छा उपयोग कर सकें, शंघाई और चेंगदू सहित कुछ शहरों ने इस पर रिसर्च करना शुरू कर दिया है।

600 किमी प्रति घंटे की स्पीड पर बीजिंग से शंघाई तक ट्रेन से यात्रा करने में केवल 2.5 घंटे लगेंगे। यह 1,000 किमी (620 मील) से अधिक की यात्रा होगी। तुलनात्मक रूप से यात्रा में हवाई जहाज से 3 घंटे और हाई-स्पीड रेल द्वारा 5.5 घंटे लगेंगे।
जापान से लेकर जर्मनी तक के देश भी मैग्लेव नेटवर्क बनाने की सोच रहे हैं, हालांकि उच्च लागत और मौजूदा ट्रैक इंफ्रास्ट्रक्चर के साथ असंगति इसमें तेजी से विकास के लिए बाधा बनी हुई है।

इसमें कोई दो राय नहीं है कि चीन अपनी तकनीकी को बहुत तेजी से विकसित कर रहा है। मगर ये ट्रेन बदलते जलवायु समीकरण के प्रभाव से अकस्मात मौसमी मार और प्राकृतिक आपदाओं के समय में सुरक्षा की कसौटी पर कितनी खरी उतरती है यह आने वाले समय में ही पता लगाया जा सकता है।