Auto sector is upset due to lack of semiconductors it effect on you know everything kpnd

0
51

Semiconductor : सप्लाई की कमी के चलते सितंबर में पैसेंजर व्हीकल्स (PV) की सेल को प्रभावित करने की उम्मीद है. हाल ही में, ग्लोबल सेमीकंडक्टर्स सप्लाई चेन की कमी ने ऑटोमोबाइल उत्पादन को बुरी तरह प्रभावित किया है. इलेक्ट्रॉनिक कॉम्पोनेन्ट का इस्तेमाल विभिन्न प्रकार के कार्यों में किया जाता है जो इंटरनल कंबाशन इंजन के उत्पादन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं. इसके अलावा, वे किसी भी वाहन में सभी प्रकार के सेंसर और कंट्रोल का एक जरूरी हिस्सा हैं.

कैसे प्रभावित होगा ऑटो सेक्टर – वर्तमान में, इन कमियों ने कई ओईएम को उत्पादन धीमा करने के लिए मजबूर किया है,जिसने पॉपुलर, फीचर रिच और हाई एन्ड मॉडल के लिए प्रतीक्षा समय को और भी अधिक बढ़ा दिया है. इंडिया रेटिंग्स एंड रिसर्च (Ind-Ra) की रिपोर्ट के मुताबिक, सेमीकंडक्टर की कमी सितंबर में PV वॉल्यूम को और प्रभावित करेगी. इसके अलावा, कहा कि सितंबर में ‘2W’ की मात्रा धीमी रह सकती है, हालांकि साल 2022 के मध्य के बाद क्रमिक सुधार जारी रहने की उम्मीद है, जो एजुकेशनल इंस्टिट्यूट और कार्यालयों को फिर से खोलने से आने वाली मांग से सहायता प्राप्त करेगा.

यह भी पढ़ें: Tata Safari Gold की पहली झलक आई सामने, चमचमाती SUV है शानदार फीचर्स से लैस

बेहतर मार्केट डिमांड – पिछले महीने ओणम से चलने वाली त्योहारी मांग और रोजाना के कोविड मामलों में लगातार गिरावट के कारण ग्राहकों के मनोबल में सुधार हुआ, जिसके परिणामस्वरूप अगस्त में घरेलू ऑटो बिक्री की मात्रा में बढ़ोतरी देखने को मिली है. रिसर्च के अनुसार, सप्लाई चेन की चिंताओं, विशेष रूप से सेमी-कंडक्टर चिप्स की कमी ने विकास को बाधित किया. मुख्य रूप से ‘2W’ सेगमेंट में गिरावट के कारण, बिक्री की मात्रा में साल दर साल 11% की गिरावट आई. रिपोर्ट में कहा गया है कि घरेलू ‘3W’ में कम आधार के कारण सालाना बिक्री में 60 प्रतिशत की बढ़ोतरी देखी गई, हालांकि अगस्त 2019 की तुलना में वॉल्यूम 40 प्रतिशत कम था.

यह भी पढ़ें: 2021 Apache RR 310 की लॉन्चिंग के बाद हुई जबरदस्त सेल, जानें डिटेल्स

सेमी-कंडक्टर चिप से जूझता बढ़ती डिमांड – इसके अलावा, रिपोर्ट में कहा गया है कि जहां ‘PV’ सेगमेंट को मजबूत डिमांड टेलविंड्स से फायदा हो रहा है, वहीं सेमी-कंडक्टर चिप की कमी के कारण अगस्त 2021 में बिक्री और मैन्युफैक्चरिंग वॉल्यूम में क्रमिक रूप से 12% और 21% की कमी आई है. लगातार तीसरे महीने, वित्त वर्ष 2020 में इसी अवधि की तुलना में वॉल्यूम अधिक था, जो पूर्व-कोविड स्तरों पर वापसी का संकेत देता है. साल-दर-साल बिक्री में 38 प्रतिशत की वृद्धि के साथ, घरेलू PV की मांग यूटिलिटी वाहनों (UV) की ओर बढ़ती रही, जो सभी घरेलू PV बिक्री का 49 प्रतिशत है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.